हेलो दोस्तों, आज में आपके लिए लेकर आया हु Samuel Taylor Coleridge की एक कविता Kubla Khan उसका सारांश। इस कविता का पूरा नाम है Kubla Khan or, A Vision in a Dream : A Fragment.

दोस्तों यह कविता Samuel Taylor Coleridge की एक कल्पना है, अपनी कल्पना को उन्होंने एक कविता के रूप में दर्शाया है.

Kubla Khan Poem in Hindi - Kubla Khan Poem Summary in Hindi


दोस्तों कविता शुरू करने से पहले आप से अनुरोध है की मेरे ब्लॉग को सब्सक्राइब कर लीजिए ताकि में जो भी लेख डालू उसकी सुचना आपको मिल जाए.

Little Facts About Samuel Taylor Coleridge

दोस्तों कविता शुरू करने से पहले आपको Samuel Taylor Coleridge के बारे में पता होना चाहिए वैसे में बहुत जल्द इन पर एक जीवनी लेकर आऊंगा लेकिन अभी के लिए में अगर आपको बताऊ तोह Samuel Taylor Coleridge का व्यक्तित्व बहुत ही दिलचस्प था. वह जब भी कोई कविता लिखते थे तोह अफीम ले कर सोते थे फिर सपने में वह उस कविता को देखते थे और लिख डालते थे.

बिलकुल ऐसा ही Kubla Khan कविता के साथ भी इन्होने किया, यह रात को अफीम खा कर सोये फिर रात को सपने में इस कविता को देखा और लिख डाला, वैसे Kubla Khan वास्तव में जंगहिस खान का पौता था तोह कहा जाता है की Samuel Taylor Coleridge इस कविता को लिखने से पहले Kubla Khan के बारे में ही पढ रहे होंगे.

वैसे यह कविता अधूरी है क्योँकि सपने में जो उन्होंने देखा फिर बाद में जब वोह सुबह उठे तोह जितना याद था उतना लिख दिया, लेकिन उनको अपना पूरा सपना याद नहीं था इस वजह से वोह कविता को पूरा न लिख पाए. वैसे Samuel Taylor Coleridge की अधिकतर कविता अधूरी ही है क्योँकि ज़्यादातर कविता उन्होंने याद नहीं रहती थी.

Kubla Khan Poem In Hindi

तोह कुब्ला खान का एक महल है Xanadu नाम की जगह पर. अब यहा एक नदी बहती है जिसका नाम है Alph इस नदी को बहुत ही पवित्र माना जाता है और यह नदी गुफाओ में से होती हुई बहती है और धूप रहित समुद्र में जाके मिलती है.

अब कवि हमे Xanadu के आसपास जो बगीचा है उसके बारे में बताएंगे.

तोह कवि बताते है की जो महल है वह दीवारो और मीनारो से घिरा हुआ है, और जो महल के आसपास बगीचे है वह बेहद ही उज्ज्वल है.

अब आगे कवि ने फिर से Alph नदी का जिक्र किया है की जो महल की पहाडियो के बीच स्तिथ है और Alph नदी यहा पर बहती है और यही के एक पहाड़ी को काटते हुए एक खाई में झरने के रूप में गिरती है.

आगे कवि हमे बताते है एक औरत के बारे मैं.

कवि बताते है की यहा पर ही मतलब Alph नदी के आसपास ही एक औरत है जो अपने बेवफा प्रेमी के लिए रो रही है और चिल्ला रही है.

अब कवि हमे आगे बताते है की किस तहरा से Alph नदी में उछाल आ रहा है और वोह घाटी से टकरा रही है. और कवि हमे Kubla Khan उसके बारे मे बता रहा है जो के उस नदी में हो रहे शोर को सुन रहा है और अपनी एक लडाई के बारे में सोच रहा है.

अब यहा से कवि हमे बहुत दूर ले जाता है जहा एक औरत बैठी है और अपना साधन बजा रही है और गाना गा रही है, अब कवि को उस औरत के गाने में एक तडप महसूस होती है. और कवि को ऐसा लगा की उस औरत की तडप ने उसे स्वर्ग का दूध पीला दिया हो.

तोह यहां पर यह कविता ख़तम होती है लेकिन अब हम इस कविता को पूरा समझेंगे की कवि कहना क्या चाहता है.

Kubla Khan Summary in Hindi

Xanadu में Kubla Khan ने एक महल बनाने का आदेश दिया, और यहा पर Alph नदी जो की बहुत ही पवित्र नदी है यह बहती है पहाडो से होते हुए और जा कर मिलती है एक ऐसे समुंद्र में जो के धूप रहित है.

अब वही पर एक उपजाव ज़मीन है जो की १० मील की है, जो दीवारों और मीनारों से घिरी हुई है और वहा पर कुछ बगीचे है जो की बहुत ही उज्व्वल है और उस बगीचे में कुछ खुशबूदार पैड फल-फूल रहे है. और इसी जगह कुछ जंगल है जो पहाडो की तहरा पुराने है.

लेकिन Alph नदी के बहने की वजह से वह खाई तिरछी कट गयी है, और उस हरी भरी पहाडी के आरपार Cedern पैड लगे हुए है, कितनी खूबसूरत जगह है जैसे इस जगह ने मुझपर जादू कर दिया है. लेकिन उसी जगह एक औरत एक अपने बेवफा प्रेमी के लिए रो रही है.

उस खाई से लगातार आवाज करता हुआ पानी बहार आ रहा है, ऐसा लग रहा है जैसे यह धरती हाफ रही हो.

कुछ पल के लिए वहा से एक फव्वारा जोर से निकलता है, और वोह फव्वारा पहले फूटता है और फिर रुकता है, उस पानी के बडे बडे टुकडे बर्फ के ओले के तहरा है, और जैसे अनाज को पीटने पर उछलता है वैसे ही यह पानी भी उछल रहा है.

वोह नदी जंगलो में से और घाटियों में से बहती है, और फिर वह नदी उन गुफाओ में पोहचती है जहा पर इंसानो की पोहच नहीं है और वोह नदी जाकर डूब जाती है एक सागर में आवाज करते हुए.

और इसी आवाज में Kubla Khan अपने खानदान की पुरानी लड़ाइओ की आवाज सुन रहा है, और वोह अपने महल के साये को लेहरो के ऊपर तैरता हुआ देख रहा है, और वहा से सुनी जा सकती है फव्वारा और गुफा की मिली झूली आवाज, और यह तोह चमत्कार ही था की महल की एक तरफ तोह धुप थी लेकिन दूसरी और बर्फ की गुफा है.

और एक बार मैंने एक लड़की को सपने में देखा जो एक साधन के साथ थी और उसे बजा रहा थी, और वह लड़की Abyssinian की थी, और वह गा रही थी Mount Abora. 

काश में उसके गाने को याद कर सकता, और उसका संगीत काफी भारी था और अगर में उस गाने को याद कर सकता तोह उस महल को में हवा में ही बना देता जिस पर एक जगह धुप गिर रही है और दूसरी जगह बर्फ की गुफा है.

तोह दोस्तों यहा पर कविता पूरी होती है और आशा करता हु की आपको यह कविता समज में आयी होगी, अगर आपको यह कविता अच्छी लगी हो तोह अपने दोस्तों से ज़रूर शेयर करएगा।

धन्यवाद